loader

गोपालन एवं पशुधन संवर्धन बोर्ड

मध्य प्रदेश

गाय के मूत्र के तत्कालीन प्रभाव

गाय के मूत्र के तत्कालीन प्रभाव

गोमूत्र पर नवीनतम शोध कहते हैं कि कैंसर मानव के लिए सबसे खतरनाक बीमारी है, जिसका उपचार जैसे किमोथेरेपी, सर्जरी, रेडियोथेरेपी और इम्यूनोथेरेपी के साथ-साथ जीन थेरेपी जैसे नए उपचारों के तौर तरीकों से किया जा सकता है, लेकिन सफलता दर बहुत अधिक नहीं है।  इसके दुष्प्रभाव रोगियों का इलाज करने पर दिखते हैं। वैकल्पिक औषधीय उपचार भी कैंसर की रोकथाम और नियंत्रण में सहायक होने का दावा किया गया है। गोमूत्र चिकित्सा में यह भी पाया गया कि इसमे कैंसर विरोधी गुण हैं।

एक अध्ययन में विभिन्न संक्रमणों पर काबू पाने और बेहतर सुरक्षा के लिए कोशिका-मध्यस्थता और प्रतिरक्षा संरक्षण के उच्च स्तर को प्राप्त करने में इम्युनोडेफिशिएंसी विषयों में मदद करने के लिए गोमूत्र डिस्टिलेट की निर्धारक भूमिका का उल्लेख किया गया है। गोमूत्र अरक को गोमूत्र की आसवन प्रक्रिया द्वारा प्राप्त किया जाता है। गोमुत्रार्क (~ गोमूत्र आसवन) और गोमूत्र के परिणाम लगभग समान हैं। यह पाया गया कि गोमूत्र के रासायनिक और औषधीय गुण गोमुत्र अर्क में संरक्षित हैं। गोमूत्र के अर्क में अमोनिया की बहुत नगण्य मात्रा है जो कि रोगियों के लिए स्वीकार्य है। अध्ययन में पाया गया कि गोमूत्र आसवन यानी गोमूत्र अर्क में एंटीऑक्सीडेंट क्षमता है। गोमुत्र अर्क में एंटीऑक्सिडेंट और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव भी है।

रोगाणुरोधी दवाओं के खिलाफ प्रतिरोध विकसित करने के विभिन्न तरीके हैं। आज कल एंटीबायोटिक्स का उपयोग काफी बढ़ गया है। बहुत सारी दवाएं हैं जो विभिन्न बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ निष्प्रभावी हैं। वैन्कोमाइसिन प्रतिरोधी है एंटरोकोकस के लिये, व सिप्रोफ्लोक्सासिन प्रतिरोधी है पी. एरुजिनोसा के लिये जैसे कुछ उदाहरण हैं। विभिन्न अध्ययनों से पता चला है कि गौ मूत्र दवाओं के प्रतिरोधी बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ बहुत प्रभावी है।

रोगाणुरोधक

घाव भरने की प्रक्रिया में गोमूत्र प्रभावकारी है।  गौ मूत्र 1% w / w नाइट्रोफुरज़ोन मरहम की अपेक्षा घाव को तेजी से ठीक करता है।

कृमिनाशक

गौ मूत्र अर्क, 1% और 5%  पाइपरज़ीन साइट्रेट से बेहतर कृमिनाशक है।

बायोइन्हेन्सर

'बायोइन्हेन्सर' / 'बायोपोटेंटियेटर' ऐसे पदार्थ हैं जो पदार्थ की जैवउपलब्धता एवं जैव-प्रभावकारिता को बढ़ाते हैं, खुद की कोई गतिविधि किए बिना । आयुर्वेद ने दवाओं के बायोएन्हेंसिंग गुणों का वर्णन करने के लिए 'योगवाही’ सिद्धांत का उल्लेख किया है। यह मौखिक जैवउपलब्धता को बढ़ाता है, जिसके परिणामस्वरूप उनकी खुराक और साइड इफेक्ट कम होते हैं। अनुसंधान के आधुनिक तरीकों के साथ आयुर्वेदिक विज्ञान को एकीकृत करके, हम अधिक जीवन-शक्ति वाला गौ मूत्र विकसित कर सकते हैं जो कि एंटिफंगल, रोगाणुरोधी एजेंटों  में बायोएन्हेंसर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। आयुर्वेद रसायन में औषधि द्वारा शरीर मे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुण होते हैं। गौ मूत्र में समान रसायन तत्त्व होते हैं और यह बायोएन्हेंसर के रूप में भी काम करता है। (गोमूत्र आसवन) गौ मूत्र की तुलना में अधिक प्रभावी बायोएन्हेंसर है। गौ मूत्र अर्क एंटीबायोटिक्स के परिवहन को 2 से 7 गुना आंतों के पार बढ़ाता है।  गौ मूत्र की बायो-इन्हेन्सिग की क्षमता सेल झिल्ली में दवाओं के अवशोषण को बढाने की है।

आम संक्रमण और रोगजनकों के खिलाफ शरीर के रोग प्रतिरोध क्षमता मे सुधार के लिए जड़ी-बूटियों और खनिजों (जैसे चवन्प्राश और पंचगव्य) का उपयोग आयुर्वेद का प्रमुख मार्गदर्शक रहा है। प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों में कहा गया है कि प्रतिदिन गौ मूत्र का सेवन करने से रोगों की प्रतिरोधक क्षमता 104% तक बढ़ जाती है।

गौमूत्र अर्क द्वारा गुर्दे की पथरी को ठीक कर गुर्दे के कार्य की बहाली पर महत्वपूर्ण प्रभाव दिखाता है। गौमूत्र की यह क्रिया कैल्शियम ऑक्सालेट के उत्सर्जन को कम करने और क्रिस्टलीकरण की प्रक्रिया को बाधित करने के कारण होती है। 

Last Updated on 21 Nov, 2019